रंगकर्मी परिवार मे आपका स्वागत है। सदस्यता और राय के लिये हमें मेल करें- humrangkarmi@gmail.com

Website templates

Sunday, January 6, 2008

देखिए आप हमे चन्दा ना कहलाये

देखिए आप हमे चन्दा ना कहलाये ये सुनकर आज कल हमसे पहले वो आसमान का चाँद ही शरमाये जो लफ्जे तारीफ आप हमारी करते हो चाँद उनसे अपना दिल है बहलाए शाम ढलते तुरंत ही प्रतीक्षा करता ताकि आप उसे सबसे पहले नज़र आये इसे जलन कहे या और कुछ पता नही हम अपने दीवाने मन् को कैसे समझाए हम इस उलझन में बावरे से फिरते चाँद आपको हमसे कही दूर न ले जाये .

4 comments:

tulika singh said...

aap kya likhti hai seriously kya emotion hai mai tho apke kavita ki mureed ho gayi aur raha swal chand ka tho aap duniya ka na sahi par rangkarmi tho chand hai hi . apke kavita ki bhvnaye suchmuch dil ko chu jati hai aur kahi na kahi sukun bhi pauchati hai kabhi kabhi dard ka bhi ahsasas hota hai plz aise hi likhte rahiye aur apne poem ki mahak is rangkarmi par failate rahiye .

mehek said...

shukran tulikaji

Amit said...

वाह..क्या ख़ूब लिखा है...मैं तो आपका फ़ैन हो गया। अच्छा लिखती हैं आप...इसी तरह लिखते रहिए.....ज़िंदगी के ये अहसास हम सबके साझे हैं...हां ये और बात है कि कुछ लोग कविता, शायरी या ग़ज़ल के ज़रिए बयान कर देते हैं, कुछ लोग बस महसूस करके रह जाते हैं। आपकी कविताएं कहीं न कहीं हम सबके उन अहसासों को एक शक्ल देती हैं जो हम सबने अलग-अलग लम्हों मे जिए हैं।

आपकी आने वाली नयी कविता के इंतज़ार में....
अमित

Keerti Vaidya said...

wow...bhut khoob....

सुरक्षा अस्त्र

Text selection Lock by Hindi Blog Tips