रंगकर्मी परिवार मे आपका स्वागत है। सदस्यता और राय के लिये हमें मेल करें- humrangkarmi@gmail.com

Website templates

Sunday, February 24, 2008

बुंदेलखंड

आज शाम से ही कुछ बेचैन सा था अक्सर ही करता रहता हूँ रिक्शे वालों का साक्षात्कार जब वो मुझे एक स्थान से दूसरे स्थान तक ले जाते हैं इस बीच ज्यादातर रिक्शेवाले बुंदेलखंड के निकले कुछ तीन साल से आए हैं कुछ एक साल से और कुछ दो महीने पहले आज जो रिक्शेवाला मिला दो महीने पहले ही महोबा से आया है मैंने पूछा सुना है वहां सूखा पड़ा है उसने बोला पिछले कई सालों से इसलिए ही तो यहाँ चला आया हूँ बीस बीघे की खेती है पर चार सालों से पानी के इंतजार में खेत सूखा पड़ा हुआ है लोग काम की तलाश में बाहर जा रहे हैं कईयों ने तो क़र्ज़ चुकाने के बजाय आत्महत्या का रास्ता अपनाया है दें भी तो कहाँ से दें मैंने पूछा सरकार क्या कर रही है उसने बोला कुछ नही उसके बाद से ही बेचैन हूँ गुस्सा भी उमड़ आता है जनता हूँ कि बुंदेलखंड का सूखा और इससे उपजी आग पर चुनावी पार्टियाँ अपनी रोटियां पकाएँगी अपनी ज़िम्मेदारी से बचते हुए एक दूसरे पर आरोप लगाएंगी दरअसल समस्या को सुलझाने का ये उनका अपना तरीका है और इसमे उनकी आपसी सहमति भी है कुछ सलाह भी आए हैं मसलन बुंदेलखंड को अलग राज्य बनने का लगता है पिछले कई सालों के सूखे पर नज़र सिर्फ़ इसलिए नही पड़ी कि उत्तरप्रदेश एक बड़ा राज्य है लगातार किसानों की आत्महत्या की खबरें सिर्फ़ इसलिए नही पढ़ पाए क्यूंकि उत्तरप्रदेश की जनसंख्या बहुत ज्यादा है और हर जिले में रोज कोई न कोई तो ज़िंदगी से मुक्ति का रास्ता फंदे से झूलकर या सल्फास निगलकर खोज लेता है अब इतने बड़े राज्य में जिसकी जनसंख्या सोलह करोड़ से ज्यादा है किस किस का हाल जाने और किस किस के मर्ज़ का इलाज करें अलग राज्य बनाने की अलाप अपने अपने सुर में कई पार्टियों ने उठाई है लगातार आती मौत की ख़बरों के बीच बड़े पैमाने पर होते पलायन के बीच बड़ी दूर की सोच रखती हैं पार्टियाँ खली पेट जो घंटों से सभा स्थल पर खड़े हैं उन्हें उपदेश पिलाते हुए कि हम आपके दुःख दर्द में साथ हैं एक अलग राज्य की आपको ज़रूरत है थके हारे बेदम पैर शाम को घर पहुँचते हैं बुझे हुए चूल्हे को देखते हुए परेशान दिमाग सोचता हुआ सा अगर बैंक , साहूकार की जिल्लत से सुबह शाम पेट की भूख से अलग राज्य के लिए जो कमीशन बनाया जाएगा उसकी सिफारिशें आने और लागू होने तक हम ख़ुद को बचाए रख सके तो हमारा भविष्य उज्जवल है ।

2 comments:

मयंक सक्सेना said...

jo sachha hai vah achcha hai !

satyandra said...

bahut badhiya.... ye bharat ki zamini hakikat hai... plz keep it up...

सुरक्षा अस्त्र

Text selection Lock by Hindi Blog Tips