रंगकर्मी परिवार मे आपका स्वागत है। सदस्यता और राय के लिये हमें मेल करें- humrangkarmi@gmail.com

Website templates

Sunday, February 24, 2008

सपने बीनता बचपन


सड़क पर पडा
बादलों से झांकती
धूप का एक टुकडा
जिसे बिछा कर
बैठ गया वो
उसी सड़क के
मोड़ पर
घर पर अल सुबह
माँ के पीटे जाने के
अलार्म से जागा
बाप की शराब के
जुगाड़ को
घर से खाली पेट भागा
बहन के फटे कपड़ो से
टपकती आबरू
ढांकने को
रिसती छत पर
नयी पालीथीन
बाँधने को
बिन कपड़े बदले
बिन नहाए
पीठ पर थैला लटकाए
स्कूल जाते
तैयार
प्यारे मासूम
अपने हम उम्रो
को निहारता
बिखरे सपनो को
झोली में
समेटता
ढीली पतलून
फिर कमर से लपेटता
जेब से बीडी निकाल कर
काश ले
हवा में
उछाल कर
उडाता
अरमानों को
जलाता बचपन को
मरोड़ता
सपनो को
चल दिया
वो उठ कर
समेत कर
वह एक टुकडा
धूप का
वही बिछा है
अभी भी
देख लें जा कर कभी भी
वो सुनहरा टुकडा
अभी भी वही है
पर
उस पर बैठा बच्चा
अब नही है !!!!

mailmayanksaxena@gmail.com

4 comments:

komal said...

hmmm...its so touchy.....mujhey bacho sey behad payar hai aur yeh kadwa sach, mein shayd hazam nahi kar pa rahi ......

keerti vaidya

pramod kumar kush 'tanha' said...

sunder aur sajeev chitran kiya hai.
badhaayee....

p k kush 'tanha'

Dr. Chandra Kumar Jain said...

TRASAD BACHPAN KA YATHARTH AUR MARMASPARHEE CHITRAN.KAVITA HEE NAHEEN EK AAINAA BHEE TO HAI...

मयंक सक्सेना said...

Aap sab ka bahut bahut shukriya
par mujhe lagtaa hai hum keval kavitao aur lekho par badhai na baante koi saarthak pahal bhi karein !!

सुरक्षा अस्त्र

Text selection Lock by Hindi Blog Tips