रंगकर्मी परिवार मे आपका स्वागत है। सदस्यता और राय के लिये हमें मेल करें- humrangkarmi@gmail.com

Website templates

Monday, November 3, 2008

कुत्ते को घुमाते हैं शान से

---- चुटकी---- बुजुर्ग माँ-बाप के साथ चलते हुए शरमाते हैं हम, अपने कुत्ते को सुबह शाम घुमाते हैं हम। ------ अधिकारों के लिए लगा देंगें अपने घर में ही आग, अपने कर्त्तव्यों को मगर भूल जाते हैं हम। ---- कश्मीर से कन्याकुमारी तक खंड खंड हो रहा है देश फ़िर भी अनेकता में एकता के नारे लगाते हैं हम। ---- सबको पता है कि बिल्कुल अकेले हैं हम, हम, अपने आप को फ़िर भी बतातें हैं हम। ---गोविन्द गोयल

2 comments:

raj said...

आपकी चुटकियों का भी जवाब नहीं।

Mrs. Asha Joglekar said...

Bahot Khoob!

सुरक्षा अस्त्र

Text selection Lock by Hindi Blog Tips