रंगकर्मी परिवार मे आपका स्वागत है। सदस्यता और राय के लिये हमें मेल करें- humrangkarmi@gmail.com

Website templates

Thursday, November 20, 2008

गुनाह

खुदा से कहते है बंदे तुझ से मोहोब्बत है बेपनाह इन्सा को इंसानियत से इश्क़ क्यूँ हो जाता गुनाह

4 comments:

Bandmru said...

खुदा से कहते है बंदे तुझ से मोहोब्बत है बेपनाह
इन्सा को इंसानियत से इश्क़ क्यूँ हो जाता गुनाह
mahka diya aapne...........
kya baat hai..........

Mrs. Asha Joglekar said...

बहुत सुंदर, महक जी ।

Sachin Malhotra said...

Mere Honton Ke Mehaktay Hue Naghmo Par Na Ja
Mere Seenay Main Kaye Aur Bhi Ghum Paltay Hain
Mere Chehray Par Dikhaway Ka Tabassum Hai Magar
Meri Aankhon Main Udaasi Kay Diye Jalte Hain

visit for more new and best shayari..

http://www.shayrionline.blogspot.com/

thank you

नारदमुनि said...

sahi baat hai.narayan narayan

सुरक्षा अस्त्र

Text selection Lock by Hindi Blog Tips