रंगकर्मी परिवार मे आपका स्वागत है। सदस्यता और राय के लिये हमें मेल करें- humrangkarmi@gmail.com

Website templates

Thursday, December 4, 2008

शब्दों की वादियाँ"

"शब्दों की वादियाँ"
शब्दों की वादियों मे विचरता ये मन , खोज रहा कुछ ऐसे कण , जो सजा सके मनोभावों को, चाहत के सुंदर साजों को, लुकती छुपती अभिलाषा को, नैनो मे दुबकी जिज्ञासा को, सिमटी सकुचाई आशा को, निश्चल प्रेम की भाषा को, शब्दों की वादियों मे विचरता ये मन , खोज रहा कुछ ऐसे कण............

3 comments:

kumar Dheeraj said...

आपके कविताई सोच का मै कायल हूं । लेखनी में आपका सानी नही है । जरूर लिखते रहिए । मेरे ब्लांग पर भी आए

नारदमुनि said...

narayan narayan likhane se pahale ek lamba thanda saans liya

Mrs. Asha Joglekar said...

सीमा जी बहुत ही सुंदर रचना ।

सुरक्षा अस्त्र

Text selection Lock by Hindi Blog Tips