रंगकर्मी परिवार मे आपका स्वागत है। सदस्यता और राय के लिये हमें मेल करें- humrangkarmi@gmail.com

Website templates

Saturday, December 6, 2008

तुम बिन

'तुम बिन"
हर गीत अधुरा तुम बिन मेरा,
साजों मे भी अब तार नही..
बिखरी हुई रचनाएँ हैं सारी,
शब्दों मे भी वो सार नही...
जज्बातों का उल्लेख करूं क्या ,
भावों मे मिलता करार नही...
तुम अनजानी अभिलाषा मेरी,
क्यूँ सुनते मेरी पुकार नही ...
हर राह पे जैसे पदचाप तुम्हारी ,
रोकूँ कैसे अधिकार नही ...
तर्ष्णा प्यासी एक नज़र को तेरी,
मिलने के मगर आसार नही.....

2 comments:

PN Subramanian said...

कविता अच्छी लगी. आभार. लेकिन हमें एक फिल्मी गीत याद आ गया. "कभी तो मिलेगी, कहीं तो मिलेगी, बहारों की मंज़िल..."

Mrs. Asha Joglekar said...

विरह की तडप को अच्छे से शब्दों में ढाला है ।

सुरक्षा अस्त्र

Text selection Lock by Hindi Blog Tips