रंगकर्मी परिवार मे आपका स्वागत है। सदस्यता और राय के लिये हमें मेल करें- humrangkarmi@gmail.com

Website templates

Monday, October 20, 2008

"सुखमय प्यार "

"सुखमय प्यार "
कब से तुझे निहार रहा हूँ , चंचल सुंदर मुख मंडल , अपने से मैं हार रहा हूँ ..... यह वो ही तो दिन है जब मैने मांग भरी तुम्हारी , गजरा ये सुख की बेला मैं तब से तुम्हें पुकार रहा हूँ , आ जाओ अब चैन नहीं है सुख देता दिन रैन नही है , जीवन सफल करो तुम आ कर कह दूँगा साकार रहा हूँ , मैं तेरा जन्म जन्म का प्रेमी तेरा सुखमय प्यार रहा हूँ ..."

6 comments:

makrand said...

कब से तुझे निहार रहा हूँ ,
चंचल सुंदर मुख मंडल ,
अपने से मैं हार रहा हूँ .....

simplly great
needling of regular words creating better impact
u got natural sense to difine
regards

वर्षा said...

प्यार का सुंदर एहसास

नारदमुनि said...

ham khuda ke kabhee kayal hee na the,unko dekha to khuda yad aaya.

har bar kee tarah aapke bhavon kee rachana lajwab hai. hindi me tippani likhani nahi aati

शिवराज गूजर. said...

आ जाओ अब चैन नहीं है
सुख देता दिन रैन नही है
kya baat hai bahut badiya.
mere blog (meridayari.blogspot.com)par bhi visit karen.
shivraj gujar

Bandmru said...

जीवन सफल करो तुम आ कर
कह दूँगा साकार रहा हूँ ,
मैं तेरा जन्म जन्म का प्रेमी
तेरा सुखमय प्यार रहा हूँ ..."
man ko bha gaya........ bahut khub.

Shambhu Choudhary said...

कब से तुझे निहार रहा हूँ ,
चंचल सुंदर मुख मंडल ,
अपने से मैं हार रहा हूँ .....
अपने से मैं हार रहा हूँ .....
अपने से मैं हार रहा हूँ .....

सुरक्षा अस्त्र

Text selection Lock by Hindi Blog Tips