रंगकर्मी परिवार मे आपका स्वागत है। सदस्यता और राय के लिये हमें मेल करें- humrangkarmi@gmail.com

Website templates

Sunday, October 12, 2008

गोविन्द गोयल की चुटकी

----- चुटकी----- हे! प्रधानमंत्री जी अब तो सम्भाल लो, या फ़िर जो थोड़ा बहुत दम बचा है वो भी निकाल लो। ----गोविन्द गोयल ------ चुटकी----- ये जो महान देश हमारा है, वह आजकल अर्थशास्त्री का मारा है। ----गोविन्द गोयल -----चुटकी------ बस करार के लिए बेकरार है अपनी सरकार, उसके लिए तो भाड़ में जाए शेयर बाज़ार। ---- गोविन्द गोयल

3 comments:

zeashan zaidi said...

हमें अपने देश के अर्थशास्त्री पर गर्व है. वह सोने का चम्मच लेकर पैदा हुआ है. उसने कभी ग़रीबी देखी नहीं. जब मंहगाई बढती है तो वह स्टील के दाम घटाकर उसे कंट्रोल करता है. उसके ख्याल में अगर कार सस्ती होगी तो मंहगाई अपने आप कम हो जाएगी. सब्जी जाए चूल्हे भाड़ में.

Suresh Chandra Gupta said...

@या फ़िर जो थोड़ा बहुत दम बचा है वो भी निकाल लो।
यह क्या प्रार्थना कर डाली आपने? दम तो पहले से ही निकाल रहे हैं, अब तो आपकी पार्थना भी रजिस्टर हो गई. अब वह जनता का दम जनता की प्रार्थना पर निकालेंगे.

rajput said...

aacha likha hai ..... kbhi mere racanvo o bhi pade

सुरक्षा अस्त्र

Text selection Lock by Hindi Blog Tips