रंगकर्मी परिवार मे आपका स्वागत है। सदस्यता और राय के लिये हमें मेल करें- humrangkarmi@gmail.com

Website templates

Friday, May 8, 2009

तो बेहतर था......

सूखे सुखन के फेर में तुम जो न पड़ते तो बेहतर था,

गालिबन इतनी सुथरी ग़ज़लें न गढ़ते तो बेहतर था;

फाकामस्ती रंग तो लायी, अंदाज़-ए-बयां और हुआ,

तुम ने जो शेर पढ़े अच्छा लगा, साइंस पढ़ते तो बेहतर था!!

1 comment:

Mrs. Asha Joglekar said...

गालिब को साइंस पडने का मशवरा क्या बात है ।

सुरक्षा अस्त्र

Text selection Lock by Hindi Blog Tips