रंगकर्मी परिवार मे आपका स्वागत है। सदस्यता और राय के लिये हमें मेल करें- humrangkarmi@gmail.com

Website templates

Friday, August 15, 2008

कौन आज़ाद हुआ?

कौन आज़ाद हुआ? किसके माथे से ग़ुलामी की स्याही छूटी? मेरे सीने में अभी दर्द है महकूमी का, मादर-ए-हिन्द के चेहरे पे उदासी है वही.

4 comments:

Mrs. Asha Joglekar said...

इसको बदलना होगा ।

Naveen Bhagat said...

hmmm :(

seema gupta said...

well said, very painful.
Regards

Krishna Kumar Mishra said...

आप ने तो दिल के जख्म हरे कर दिये सच्चाई को ऐसे उकेरो गी तो भारत मे बहुत से बुद्ध पैदा हो जायेगे और एक बुद्ध ने साउथ एशिआ का इतिहास बदल दिया .............कई होगे तो क्या होगा............

सुरक्षा अस्त्र

Text selection Lock by Hindi Blog Tips