रंगकर्मी परिवार मे आपका स्वागत है। सदस्यता और राय के लिये हमें मेल करें- humrangkarmi@gmail.com

Website templates

Saturday, January 17, 2009

भोर

भोर भई मनुज अब तो तू उठ जा, रवि ने किया दूर ,जग का दुःख भरा अन्धकार ; किरणों ने बिछाया जाल ,स्वर्णिम किंतु मधुर अश्व खींच रहें है रविरथ को अपनी मंजिल की ओर ; तू भी हे मानव , जीवन रूपी रथ का सार्थ बन जा ! भोर भई मनुज अब तो तू उठ जा !!! सुंदर प्रभात का स्वागत ,पक्षिगण ये कर रहे रही कोयल कूक बागों में , भौंरें ये मस्त तान गुंजा रहे , स्वर निकले जो पक्षी-कंठ से ,मधुर वे मन को हर रहे ; तू भी हे मानव , जीवन रूपी गगन का पक्षी बन जा ! भोर भई मनुज अब तो तू उठ जा !!! खिलकर कलियों ने खोले ,सुंदर होंठ अपने , फूलों ने मुस्कराकर सजाये जीवन के नए सपने , पर्णों पर पड़ी ओस ,लगी मोतियों सी चमकने , तू भी हे मानव ,जीवन रूपी मधुबन का माली बन जा ! भोर भई मनुज अब तो तू उठ जा !!! प्रभात की ये रुपहली किरने ,प्रभु की अर्चना कर रही साथ ही इसके ,घंटियाँ , मंदिरों की एक मधुर धुन दे रही , मन्त्र और श्लोक प्राचीन , पंडितो की वाणी निखार रही तू भी हे मानव ,जीवन रूपी देवालय का पुजारी बन जा ! भोर भई मनुज अब तो तू उठ जा !!! प्रक्रति ,जीवन के इस नए भोर का स्वागत कर रही जैसे प्रभु की साड़ी सृष्टि ,इस का अभिनन्दन कर रही , और वसुंधरा पर ,एक नए युग ,नए जीवन का आवहान कर रही , तू भी हे मानव ,इस जीवन रूपी सृष्टि का एक अंग बन जा ! भोर भई मनुज अब तो तू उठ जा !!! vijay kumar sappatti M : 09849746500 E : vksappatti@gmail.com B : www.poemsofvijay.blogspot.com

2 comments:

राज भाटिय़ा said...

बहुत ही सुंदर कविता . धन्यवाद

amitabh said...

bhai mere ab to uth jaa...
bahut sundar likha he..
itani kavitaye hoti he pr afsos uthna bahut kamo ki kismat me hoti he..

सुरक्षा अस्त्र

Text selection Lock by Hindi Blog Tips