रंगकर्मी परिवार मे आपका स्वागत है। सदस्यता और राय के लिये हमें मेल करें- humrangkarmi@gmail.com

Website templates

Tuesday, January 13, 2009

स्वामी विवेकानंद

आज भी परिभाषित है उसकी ओज भरी वाणी से निकले हुए वचन ; जिसका नाम था विवेकानंद ! उठो ,जागो , सिंहो ; यही कहा था कई सदियाँ पहले उस महान साधू ने , जिसका नाम था विवेकानंद ! तब तक न रुको , जब तक लक्ष्य की प्राप्ति न हो ... कहा था उस विद्वान ने ; जिसका नाम था विवेकानंद ! सोचो तो तुम कमजोर बनोंगे ; सोचो तो तुम महान बनोंगे ; कहा था उस परम ज्ञानी ने जिसका नाम था विवेकानंद ! दूसरो के लिए ही जीना है अपने लिए जीना पशु जीवन है जिस स्वामी ने हमें कहा था , उसका नाम था विवेकानंद ! जिसने हमें समझाया था की ईश्वर हमारे भीतर ही है , और इंसानियत ही सबसे बड़ा धर्म है उसका नाम था विवेकानंद ! आओ मित्रो , हम एक हो ; और अपनी दुर्बलता से दूर हो , हम सब मिलकर ; एक नए समाज , एक नए भारत का निर्माण करे ! यही हमारा सच्चा नमन होंगा ; भारत के उस महान संत को ; जिसका नाम था स्वामी विवेकानंद !!! vijay kumar sappatti +91 9849746500 vksappatti@gmail.com http://www.poemsofvijay.blogspot.com/

2 comments:

राज भाटिय़ा said...

आओ मित्रो , हम एक हो ;
और अपनी दुर्बलता से दूर हो ,
हम सब मिलकर ; एक नए समाज ,
एक नए भारत का निर्माण करे !
यही हमारा सच्चा नमन होंगा ;
भारत के उस महान संत को ;
जिसका नाम था स्वामी विवेकानंद !!!

काश हम सब ऎसा सोचते
बहुत सुंदर लगी आप की यह पोस्ट
धन्यवाद

muskan said...

bhut sundar rachana hai.

सुरक्षा अस्त्र

Text selection Lock by Hindi Blog Tips