रंगकर्मी परिवार मे आपका स्वागत है। सदस्यता और राय के लिये हमें मेल करें- humrangkarmi@gmail.com

Website templates

Monday, March 17, 2008

सिलसिला .....



कया
है, सिलसिला जो तुमसे जुड़ गया....


पलकों पे इक खाव्ब रुक गया
लबो पे तेरा नाम गुनगुना गया
सुबह हमारी फूलों से महका गया..

कया है, सिलसिला जो तुमसे जुड़ गया....

फूलों सा नम औंस से भीगा गया
चाँद के टुकड़े से हमे दमका गया
सावन के हिंडोले में झुला गया..

कया है, सिलसिला जो तुमसे जुड़ गया....

दिए के ज्योत जैसे जला गया
मंदिर्यालय की घंटियों सा बज गया
पावन श्लोको सा बरस गया..

कया है, सिलसिला जो तुमसे जुड़ गया....


कीर्ती वैद्य .........

2 comments:

satyandra said...

bahut badhiya hai ......

Mrs. Asha Joglekar said...

bahut achcha par mandiryalay kya hota hai ?

सुरक्षा अस्त्र

Text selection Lock by Hindi Blog Tips