रंगकर्मी परिवार मे आपका स्वागत है। सदस्यता और राय के लिये हमें मेल करें- humrangkarmi@gmail.com

Website templates

Saturday, March 5, 2011

अन्दर से डर जाता हूँ देख भला इन्सान , अपना सा लगने लगा जो बैरी था शैतान। ---- यही सोच कर सबके सब होते हैं परेशान, भ्रष्टाचार का कोई किस्सा अब करता नहीं हैरान। ---- गली गली में बिक रहा राजा का ईमान , सारी उम्मीदें टूट गईं राज करें बेईमान।

1 comment:

सुरक्षा अस्त्र

Text selection Lock by Hindi Blog Tips